बच्चे (Children)

photo source- google

बच्चे

अभी आकाश सूना था,
अभी नभ नीले रंग में था।
अभी स्कूल में थे बच्चे और,
मैं अपनी छत पे बैठा था।

बजी घंटी हुई छुट्टी, 
बच्चों ने बांध ली मुठ्ठी।
बच्चे अपने घर को भागे,
ज्यों ट्रेन स्टेशन से छूटी।

खा-पीकर केे अब बच्चे,
अपनी अपनी छतों पर हैं।
पतंग और डोर ले हाथों में,
अब नभ को सजाते हैं।

ये बच्चे प्यार की सूरत,
ये बच्चे ईश की मूरत।
अभी जो लग रहे तारे,
वो कल नभ के बनें सूरज।

हल्की सी डांट पे रो देते
हल्की सी लाड़ पे हँस देते।
किलकारियों अठखेलियों से
ये घर आंगन सजा देते।
                                    अनिल डबराल

12 टिप्‍पणियां:

  1. सचमुच बच्चों से ही मासूमियत और कोमलता है।
    सुंदर रचना।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार
    (19-06-2020) को
    "पल-पल रंग बदल रहा, चीन चल रहा चाल" (चर्चा अंक-3737)
    पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता को मंच देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्

      हटाएं
  3. बचपन ऐसा ही होता है बहुत बढ़िया

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर कोमल मासूम सी कविता ।
    सच बच्चे सब ऐसे ही होते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर अभिव्यक्ति..... बचपन ऐसा ही होता है...पल में हँसना, पल में रोना और दिल में कोई बात न रखना....ऐसी ही मासूमियत से भरा...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद् नैनवाल जी 'अंजान'

      हटाएं

Blogger द्वारा संचालित.